The Mystery Behind Numerology – अंकों में छुपे रहस्य

According to Numbers are those adjective associated with our life these  not only effects our life but also foretell our future. By Numerology we can easily understand our future. Numerology is a subject which can be understood without thorough study of Astrology. Any person who has average knowledge of astrology can make accurate forecasts with the help of numerology. At least you can know for yourself what numbers are fruitful for you.


First of all let’s understand numbers and their related key planets.


Number 1 represents Sun. Number 2 represents Moon, number 3 Jupiter, number 4 Harshal, number 5 Budh, number 6 Shukra, number 7 Neptune, number 8 Shani and number 9 represents Mars. Before understanding the mystery of our Past, Present & Future ,with the help of Numerology we should better note down happened in our life. Like a special day when we achieved something extra ordinary, when we completed your studies, got our degree, our , which day we met our soul mate, our spouse’s birth date, our first child’s birth date, The day when we got our biggest happiness, our first job’s , our , our etc. Numerology tells us about good and bad both. Now note down some important bad incidents when you lost something. Like some related incidents or disputes.

When you have all the important dates of your life with you then you can fix a number for yourself.  You can now know the number which repeated itself again & again. There is always a certain number in everybody’s life which repeats itself in the form of incidents. For example persons who born on 9, 18 and 27 date will experience that something bad of good happens on the same dates.

One of my relative experience good or bad whatever normally  always on 6, 14 and 23 date of month.  23 January, First child 14 July, Transfer 14 October, Vehicle no. 1346 which was bought on 6 December 2004, Abdominal operation on 3 May 2010 and father demise on 12 September, Food injury 21 January 2011 and second operation on 30 August. By reading this you can easily find out that number 6 brings happiness while number 3 brings problems and disputes. If you look at this closely you can understand that without the help of any astrologer you can do your important work on your which have your . And you can also dates to do anything new.

By this way you can easily sort out which numbers are good for you and which are bad. To get treated yourself better from a bad number you can fix your house no., Vehicle no. or phone no. with a good one and can get good results. Number speaks, we only need to understand what they say.Jai Shree Ram !

 

अंकों में छुपे रहस्य
अंक हमारे जीवन से जुड़े कुछ ऐसे विशेषण हैं जो न केवल हमारे जीवन को प्रभावित करते हैं बल्कि एक भविष्य से जुड़ी पूर्व सूचना भी देते हैं । अंक ज्योतिष से भविष्य को बड़ी ही सरलता से समझा जा सकता है । अंक ज्योतिष एक ऐसा विषय है जिसे बिना ज्योतिष के गहन अध्ययन के भी समझा जा सकता है । कोई भी ज्योतिष का सामान्य ज्ञान रखने वाला व्यक्ति अंक ज्योतिष के द्वारा सटीक भविष्यवाणी कर सकता है । कम से कम आप अपने विषय में तो पता लगा ही सकते हैं कि अमुक अंक आपके लिए कैसा रहेगा ।
सबसे पहले अंक और उनसे जुड़े ग्रहों को जान लेना आवश्यक है ।
अंक एक सूर्य का प्रतिनिधित्व करता है । अंक दो चन्द्रमा का, अंक तीन गुरु यानि बृहस्पति का, अंक चार हर्षल, अंक पांच बुध, अंक छह शुक्र, अंक सात नेपच्यून अंक आठ शनि और अंक नौ का प्रतिनिधित्व मंगल करता है ।
अंकों से भूत भविष्य और वर्तमान का रहस्य जानने के लिए सबसे पहले आप अपने जीवन से जुड़ी महत्वपूर्ण घटनाएं नोट कर लीजिये । जैसे कि आपकी जन्म तारिख क्या है । किस दिन आपने कोई महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की । किस दिन आपकी शिक्षा पूर्ण हुई या फिर किस दिन आपने कोई डिग्री हासिल की । यह देखें किस दिन आपकी शादी हुई । उस दिन क्या तारिख थी जब आप सबसे पहले अपने जीवन साथी से मिले थे । आपके जीवन साथी की जन्म तारिख क्या है । आपका विवाह किस तारिख को हुआ और आपकी पहली संतान किस तारिख को हुई । उस दिन क्या तारिख थी जब आपको जीवन में सबसे अधिक ख़ुशी मिली । उस दिन क्या तारीख थी जब आपने पहली बार नौकरी Join की । किस दिन को आपका स्थानान्तरण हुआ और किस दिन आपको Promotion मिली ।
अंक ज्योतिष से अच्छा और बुरा दोनों का पता लगाया जा सकता है । ये सब तो हुई कुछ अच्छी घटनाएं, अब आप वे सभी दिन याद कीजिये जिन तारीखों में आपने कुछ खोया था । जैसे कि परिवार से जुड़ी कुछ घटनाएं और विवाद ।

जब आपके पास अपने जीवन से जुड़े सभी अच्छे और बुरे दिनों से सम्बंधित तारीखों का विवरण हो तो समझ लें कि अब आप अपने लिए कोई एक अंक निर्धारण कर सकते हैं । आप उस अंक का पता लगा सकते हैं जिसकी आपके जीवन में बार बार आवृत्ति हुई है ।
हर व्यक्ति के जीवन से कोई न कोई अंक ऐसा जुड़ा होता है जो व्यक्ति के जीवन में बार बार घटित होता है । उदाहरण के लिए किसी भी महीने की नौ, अठारह, सत्ताईस तारीखों में जन्म लेने वाले व्यक्तियों के जीवन में कुछ भी अच्छा बुरा इन्ही तारीखों में होता है ।
मेरे एक परिचित के साथ जब भी कुछ अच्छा होता है तो उस दिन ६, १५, २३ इन में से कोई न कोई तारीख अवश्य होती है । विवाह कि सालगिरह २३ जनवरी, प्रथम संतान, १५ जुलाई, स्थानान्तरण १५ अक्टूबर और उनकी गाडी का नंबर १३५६ है जो कि ६ दिसम्बर २००४ को खरीदी गयी थी । उनके अनुसार उनके पेट का ऑपरेशन ३ मई २०१० को हुआ तथा पिता का स्वर्गवास १२ सितम्बर, पैर में चोट २१ जनवरी २०११ को तथा दूसरी बार आपरेशन ३० अगस्त को हुआ था ।
इन सब से यह आसानी से समझा जा सकता है कि अंक ६ उनके जीवन में जहाँ खुशियाँ लेकर आता है वहीँ अंक तीन विवाद और मुसीबतों को लेकर घटित होता है । यदि इस तरफ और गहराई से देखा जाये तो बिना किसी ज्योतिषी कि सलाह के आप अपने शुभ अंक वाली तारीख को अपना कोई महत्वपूर्ण कार्य कर सकते हैं और बुरी तारीखों से बचकर उन दिनों में कुछ भी नया करने से परहेज किया जा सकता है ।
इस तरह आप स्वयं पता लगा सकते हैं कि कौन सा अंक आपके लिए शुभ है और कौन सा अंक अशुभ ।  अशुभ अंक से बचने के लिए अपने घर का, गाडी का या फोन का नंबर निर्धारित करके शुभ फल प्राप्त कर सकते हैं और अशुभ अंकों से सर्वथा अपना बचाव कर सकते हैं । अंक बोलते हैं बस जरूरत है हमें यह समझने की कि अंक क्या बोलते हैं ।

Source